आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   See

मेरे अल्फाज़

देखेंगे

Raj Kumar

12 कविताएं

41 Views
हम खुद को बदल के देखेंगे
इधर से अगर नजरें घुमा ली आपने
हम उधर से देखेंगे
जुल्फें जो आ गईं चेहरे पे
हम अदा से झटक के देखेंगे
लकीर के फकीर से क्या चलते रहना
हम नई रहगुजर से गुजर के देखेंगे
जिस तरह बच्चे महफूज हैं माँ बाप की गोद में
हम नदी में लहरों सा उछल के देखेंगे
राज, यूँ तो सब खुशियां हासिल हैं
जिंदगी की दहलीज पर
किसी का दुःख दर्द जानने की खातिर
हम पांव में कांटे चुभो के देखेंगे

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!