आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Me to Shyar hu

मेरे अल्फाज़

मैं तो शायर हूँ

Pratik Singhal

1 कविता

8 Views
ये ऊँची ऊँची इमारते मैं नहीं देखता हूँ
ये बड़ी बड़ी गाडियाँ मैं नहीं देखता हूँ
सिर्फ कागज कलम दे दो मुझे तो यारो
ये शान-ए-शोहरत मैं नहीं देखता हूँ ।

महबूब को महबूबा से मुहब्बत हैं
महबूबा को महबूब से मुहब्बत हैं
मैं तो शायर कवि हूँ यारों
मुझे तो मेरी शायरी और कविता से मुहब्बत हैं ।

हर चीज़ को मैं अलग नजरिये से देखता हूँ
आँखों में मधुशाला और जुल्फो में लहरे देखता हूँ
कोई कुछ भी कहे , तो कहने दो उसे
मैं तो शायर और कवि हूँ हर जगह शायरी और कविता देखता हूँ ।

अपनो और गैरो के लिए लिखता हूँ
हिन्दू और मुसलमान के लिए लिखता हूँ
मैं तो शायर कवि हूँ यारों
अपने मुल्क हिंदुस्तान के लिए लिखता हूँ ।

कवि को बदनाम मत किया करो उन महफ़िलो में
कवि को बदनाम मत किया करो उन आवारा गलियों में
कवि होना कोई आम बात नहीं न कवि कोई आम शख्शियत है
इसलिए कवि का सम्मान किया करो हमेशा उन महफ़िलो में।

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!