आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

चलो अब खुश होने की वजह ढूंढ़ते हैं

                
                                                                                 
                            चलो अब खुश होने की वजह ढूंढते हैं
                                                                                                

चले वहीं जहां कोई उदासी ना हो
वह एक छोटा सा अनजाना शहर ढूंढते हैं
भागते रह गए जिंदगी भर यूं ही
चलो अब एक बरगद की ठंडी छांव ढूंढते हैं
छूटा संग कितनों का जिंदगी में साथ चलते-चलते
चलो अब उन्हीं दिलों की गिरह ढूंढ़ते हैं
वक्त गुजर गया बहुत जिंदगी का
चलो अब अंधेरे के बाद की सुबह ढूंढते हैं
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X