आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Masoomiyat ka katl

मेरे अल्फाज़

मासूमियत का क़त्ल

Poonam Singh

14 कविताएं

29 Views
कभी सूरज की रौशनी बन कर
मेरे आँगन में बिखर जाती,
मेरे मन के हर कोने को जगमगाती
कभी चाँदनी बन कर
मेरे आँगन में पसर जाती ,
मेरे अंदर तक शीतलता भर जाती।
कभी खुशबु बन कर ,
मेरे आँगन से गुजर जाती।
मेरे आस पास क्या वह तो ,
अंदर तक मुझे महका ती ,

कई दिनों तक जब।,
देखा नहीं अपने आस पास
जाकर उसके घर देखा ,
पता चला किसी ने बेरहमी से उसके साथ
दुष्कर्म कर, उसे खत्म कर दिया
व्यथित मन घर लौटा। देखा
आज आँगन में पड़े थे
खून के छींटे
मैं शर्मिंदा था अपने पुरुषत्व पर
क्यों की मुझ जैसे पुरुष ने ही
उस कली को फूल बनने से पहले ही
मसल कर - कुचल कर रख दिया।

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!