आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Mera Astitva

मेरे अल्फाज़

मेरा अस्तित्व

Pooja Tripathi

7 कविताएं

43 Views
जो है हक़ हमारा,उसे भी मांगना पड़ता है
पग-पग पर निगरानी,पग-पग पर मर्यादाये बतलाते है
है क्या अस्तित्व हमारा,ये हमें समझाते हैं
मैं नारी हुँ, हर पल ये अहसास कराया जाता हैं
हर रूप में,हर रिश्ते में
हर कर्त्तव्य निभाती हूं
है क्या अस्तित्व हमारा,फिर भी ये हमे समझाते हैं
मेरा क्या है, मुझे तो ब्याह के मंडप तक बैठाना हैं
देकर दहेज फर्ज निभाना है
मेरा अस्तित्व तो कही किसी आंगन में
घूंघट के नीचे पलता है
संसार सृजन का दायित्व मुझ पर
नवजीवन धरती पर लाती हूं
फिर भी है क्या अस्तित्व हमारा,ये हमें समझाते हैं

-पूजा रमा त्रिपाठी

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!