आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   poems of bhagwan das motwani in amar ujala kavya mere alfaz
प्रतीकात्मक तस्वीर

मेरे अल्फाज़

कल्पना भी कर सकते हैं - ऐसी कैसे वे ?

भगवान दास मोटवानी, जयपुर

2526 Views
अपने किन्हीं मित्र का,
पढ़ाया उन्होंने मुझे यह सन्देश,
कुछ कशिश भरा,
कुछ निराश मन की व्यथा से भरा,
दर्शाता उनकी उत्सुकता एवं व्याकुलता – कि
“पहुंच चुके हैं हम लोग,
उम्र के उस पड़ाव पर ,
भाता नहीं अब –
न पड़ता है अंतर कोई - कि,
है आज ‘रोज डे’, ‘टेडी डे’, प्रॉ’मिस डे’,
या फिर ‘वैलेंटाइन डे’ I

लेकिन अंतर पड़ता है हमें अवश्य,
भयानक अंतर,
तो केवल ड्राई डे से” I
हुआ सुन कर एकबारगी ही,
मन में रोष अत्यधिक,
लिखवाया उत्तर उन्हें तुरंत,
कुछ इस तरह –
“क्यों है भटकन ?
कल्पना भी कर सकते हैं ऐसी कैसे वे ?

अपनी प्रियतम पत्नी के मृगनयनों की –
झील की गहराई में,
निहारते हुए - तनिक डूब कर तो देखें,
कुछ और गहराई में,
किस पड़ाव की बात –
हैं वो करते ?
हर क्षण ही तो करता है मन,
खो जाने को –
मतवाले उन दो नयनों में” I
कल्पना भी कर सकते हैं ऐसी कैसे वे ?

बनाये रक्खें दांपत्य जीवन की गरिमा,
रहें जकड़े अटूट बंधन में - पारस्परिक प्रेम के,
करें आदर एक दूजे का,
आपसी समझ एवं विश्वास का -
बने उदाहरण अदुभुत,
रहें खोए खोए एक दूसरे में,
लें आनंद भरपूर -
पारिवारिक जीवन की मिठास का,
क्यों है भटकन ?
कल्पना भी कर सकते हैं ऐसी कैसे वे ?

भाग्यशाली हैं वे - जिनको मिल पाता है,
सुखद दांपत्य जीवन,
अपितु टूटे हुओं को बिखरते,
प्रायः सिसकते - अंदर ही अंदर घुटते ही तो देखा है,
क्यों है भटकन ?
कल्पना भी कर सकते हैं ऐसी कैसे वे ?

- भगवान दास मोटवानी 

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!