आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Ek sawan beet gaya

मेरे अल्फाज़

एक सावन बीत गया

palak soni

1 कविता

157 Views
आज तुम बिन एक सावन बीत गया
आज तुम बिन एक सावन बीत गया

पत्रों की झर झर ध्वनि में
अनुभूति कुछ थी तुम्हारी,
पयोदो मे छुपी कौमुदी में
अनुकृति कुछ थी तुम्हारी,
मगर वर्तमान के ही संग संग
जैसे कोई अतीत गया...
आज तुम बिन एक सावन बीत गया.

प्रस्तरों पर प्रेम के चित्र
अंकित हैं अभी भी,
तेरे पल प्रतिपल के शब्द
मन में संचित हैं अभी भी,
मगर ब्याल के मुख से
विष भला कैसे छूटे...
दर्प में ही तो संसार से
सारा विनीत गया....
आज तुम बिन एक सावन बीत गया.

विचारों मे मेरे भी
विरोधाभास खूब रहा है,
मन के तड़ाग में मेरे
तू घुट घुट कर डूब रहा है,
नखत श्वेत है, श्वेत रहने मे ही
जग की भलाई है...
उन श्वेत नखतों पर कोई
स्याह रंग सा छींट गया...
आज तुम बिन एक सावन बीत गया...
आज तुम बिन एक सावन बीत गया...

यह कविता एक विरह भाव को प्रकट करती हुई नाराज़गी दर्शाती है, यह प्रेम के प्रति मोह भंग का पर्याय है।


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!