भगत सिंह के सपने पर कविता

                
                                                             
                            भगत सिंह की भक्ति का,
                                                                     
                            
भारत माता की शक्ति का
मैं जज़्बा लेके बेठा हूं ,
कोई नहीं जानता उसको
मैं आज बताने वाला हूं
ख़ून खौलता मेरे दिल का
वह ख़ून उबलने वाला है
इंकलाब के जयकारों से
आवाज़ उठाने वाला हूं
उठो जवानो में तुम को
वो मैदान दिखाने वाला हूं
जहां भगत सिंह ने अपनी मां
को गले लगाया था ।
मां लेकर आई थी आशा
बोलेंगे सब एक ही भाषा
लेकिन अपने ही राष्ट्र के गद्दारों ने
हिंदी को इंग्लिश बना दिया
फिर क्यों कहते हो तुम सब
की मातृभाषा को भुला दिया
इसी बात का दर्द है मुझ को
जिसने ही उन तीन मासूमों को
फांसी के फंदे झूला दिया
जागो तुम मेरे वीर जवानों
हक तुम्हारा छीना हे
राष्ट्रभाषा को फिर से पाओ
यह भगत सिंह का वादा है

छबड़ा जिला बारां ( राजस्थान )


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X