मरुवन

                
                                                             
                            वो ख़ुद जलती है
                                                                     
                            
धूप में
चलती है
कांटों पर
तपती बालू पर
प्यास से सूखे होंठ लिये
भर लाती है घड़ों पानी
मीलों चलकर
खाती है चोटें
तन पर भी मन पर भी
फिर भी जलाती है
सन्ध्या का दीपक
घर की ख़ुशहाली के लिये
ख़ुद रहती है भूखी
लेकिन बनाती है त्योहार पर
मीठे पकवान
अपना जीवन थार सा है
पर बनाती है अपनों के लिये
मरुवन
....
नीलम पारीक


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X