विज्ञापन

अधूरी प्रेम कहानी

Adhuri Prem Kahani
                
                                                                                 
                            बस स्टॉप पर मैं अक्सर उसे देखा करती थी और वह मुझे देखा करता था
                                                                                                

जाने क्यूं मुझे ऐसा लगता था जैसे वह लड़का मुझ पर मरता था
कभी जिप्सी में, कभी बाइक पर, बस स्टैंड के लेता था फेरे
रहती थी मेरी सहेली हरदम साथ में मेरे।

एक दिन साथ न आई मेरी सहेली
उस दिन मैं पड़ गई अकेली
देख अकेली वह मेरे पास आया
कुछ मैं घबराई, कुछ दिल घबराया।

मैं देख ही रही थी ऊपरवाले की करामात
कि वह बोला “करनी है आप से अर्जेन्ट बात”
आपस में पहचान कराई
फिर बोला “आपकी सहेली नहीं आई”।

यह सुन मैं थोड़ा सकपकाई
पर संभलते हुए मैंने कहा
“उसका लेक्चर है चल रहा”।

इतने में उसने लिफाफा बढ़ाया
जिस पर था खूब सेंट लगाया
गुलाबी लिफाफा देख दिल धड़का
पर पता नहीं क्यों यह बायॉं नयन फड़का।

मुझे लगा मेरे भाग्य जागे
लिफाफा बढ़ा वह बोला आगे
“आप मेरा इतना काम करेंगी क्या
यह लेटर उस तक देंगी पहुंचा”
“किसे”
“उसे ! अरे वही जीन्स वाली मेरी हूर”
यह सुन मेरे सपनों का ताजमहल हुआ चकनाचूर

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
4 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X