आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Katu satya

मेरे अल्फाज़

कटु सत्य

Neelam Jaidev

3 कविताएं

518 Views
अब तो मुझको चलना होगा,हूँ उगता सूरज ढलना होगा,
निशा तरसती आँखें लेकर उन आँखों को जलना होगा।
अब तो मुझको........

बंधन मुझको रोक न पाए,सृष्टि ने हैं नियम बँधाए,
आज शिखर पर पहुँचे है जो,कल समतल पर चलना होगा।
अब तो मुझको.........

राज़ यही है,भेद यही है,हर पीड़ा का लेप यही है,
आना जाना इक क्रिया है,इस क्रिया में पलना होगा|
अब तो मुझको.........

- नीलम जयदेव

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!