आपका शहर Close
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Man Tarasta Hai

मेरे अल्फाज़

मन तरसता है

Nagendra Dutt

71 कविताएं

4 Views
कभी एकांत में बैठे-बैठे
चला जाता हूँ यथार्थ से
कल्पना लोक में
कहीं दूर-बहुत दूर
सपनों की दुनिया में
अचानक स्मृति पटल पर
एक दृश्य उभरता है
चलने लगती है जैसे रील
सिनेमा की तरह
उभरता है बचपन का
एक अनूठा एहसास
गाँव की सर्दियों के मौसम में
रिमझिम बरखा की
एक अद्भुत फुहार
जो धीरे-धीरे बदल जाती थी
यकायक हिमपात के दृश्य में
एक अद्भुत जादू की तरह
बरखा की शीतल बूंदें
हो जातीं थी तबदील उड़ते हुए
श्वेत रुई के फाहों के सदृश जिन्हे
देखकर आंखें होती थी विस्फारित
विस्मित आनंद का अनूठा एहसास
आज भी जिसका सुखद आभास
साकार हो उठता है मेरे तन-मन में
फिर क्या नजारा होता था बाहर का
रात के बाद भोर के उजाले में
दिखती थी एक उज्ज्वल अनुपम छटा
हिम निर्मित पर्वत माला की जो
बन जाती थी मेरे मकान की लम्बाई में
रात भर होते हिमपात से
पाषाणी छज्जों से फिसलकर
भोर में दरवाजा खोलते ही
बाहर आने का रास्ता होजाता था बंद
और तब निकलती थी
एक उल्लसित सी किलकारी
अबोध शिशु मन-मुख से प्रफुल्लित होकर
मानो आगया हो सारा संसार मुटठी में
अपने ही घर के आँगन में प्रकृति की
इस अजब छटा को देखकर
शिशु-मन भरता था
जाने कितनी कुलांचे
मानों किसीने जादू फेरा हो
मेरे घर के चारों ओर
मन जैसे उड़-उड़ जाता था
बर्फ़ से ढके हरियाले
खेतो में, खलिहानों में
वनों में, नदी-नालों में
झरनों में ताल-तलैयों में
पर्वत-श्रृंखलाओं में
घनेरे बादलों की
अनूठी आकृतियों में
हरे-भरे पेड़-पौधों में
चहचहाते, कोलाहल करते
रंग-बिरंगे पक्षियों में और
फिर जैसे दृश्य बदलता था
सूर्य निकलने लगता था
जिसकी सुखद स्वर्णिम आभा
फैलाती थी सुनहली किरणे
एक विशाल श्वेत हिम चादर पर
जिसकी न थी लम्बाई-चौड़ाई
न थी कोई थाह, न कोई सीमा
केवल एक अनंत विस्तार
दृष्टि जहाँ तक भी जाती थी
देखती थी पेड़ो पर झूलती सी
बर्फ की ही पत्तियां-टहनियां
जिनसे टपकता रहता था
शीतल हिम रस जबतक
सूर्यदेव चमकते रहते थे
दृश्य बदलते रहते थे
निर्मित होजातीं थी
असंख्य जल-धाराएं धीरे-धीरे
लौटती थी फिर हरियाली
अपने स्वाभाविक रूप में
चटकीली धूप की सुखद गरमाई से
मिलता था एक अप्रतिम आनंद
बंध जाता था एक अद्भुत शमां
कुदरत का कैसा नूर बरसता है
जबभी यादोँ का सैलाब छलकता है
उसके लिए आज भी मन तरसता है
- नागेन्द्र दत्त शर्मा



- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!