दुनिया के खेल निराला बा।

                
                                                             
                            दुनिया के खेल निराला बा
                                                                     
                            
कहीं उच कहीं खाला बा
जीयत मनई मुवावल बा
गारल मुर्दा उखारल बा।

जातिवाद के पठन-पाठन कर
झगड़ा लगावल बा
दुनु पगहा हाथे धके
बैलन के भरमावल बा।

घरवा तोहार फोड़ गइल
बोला-भाखा खानदानी बा
सच छुपल चूहानी बा
"मुन्ना"झूठ के चढल जवानी बा।।

अनमोल"मुन्ना"एकलव्य
ग्राम:कटेया छपरा सारण बिहार



हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X