आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

खुद से भी ज्यादा चाहत थी जिसकी वही बेवफाई का खत लिख गई..

                
                                                                                 
                            घड़ी एक मैंने तराशा उसे जब....
                                                                                                

दिलों में हकीकत की छत दिख गई...
खुद से भी ज्यादा चाहत थी जिसकी
वही बेवफाई का ख़त लिख गई..

खाई थी कसमें.. निभायेंगे बंधन..
जिएंगे मरेंगे न टूटेगा बंधन...
महकेगा मन में सुगंधित सा चंदन..
लगाए थे नयनों में प्यारा सा अंजन..

अचानक से टूटी मोती की लड़ियां...
खुलने लगी... बंधी थीं जो कड़ियां..
मोती गले में ऐसे पिरोए...
फिर तो उदासी की लत लग गई....
खुद से भी ज्यादा चाहत थी जिसकी
वहीं बेवफाई का खत लिख गई..

अब दिखता नहीं है नजरों से कुछ भी...
स्वारथ की मोटी परत चढ़ गई.....

गुजारे थे लम्हे, हकीकत के सपने
उसी ने डुबाए, कई राज अपने...!
अपना हमारा कहां तक सहारा
यही जानने की कसर रह गई......
नदियों सा निर्मल बसा प्यार था जो..
छिछली सी मैली नहर रह गई.....

दिखता नहीं है नजरों से कुछ भी...
नया इश्क करने की लत गई.....!
खुद से भी ज्यादा चाहत थी जिसकी
वहीं बेवफाई का खत लिख गई..
~ मोहन त्रिपाठी
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X