कुछ कर जाना है

                
                                                             
                            ज़िन्दगी में मुश्किलों से डर गए तो
                                                                     
                            
ज़िन्दगी भर मुश्किलों से पिटोगे
एक बार सीख लिया मुश्किलों से लड़ना
तो ज़िन्दगी में हर खेल जीतोगे
ज़िन्दगी में हर खेल जीतोगे

मुश्किलों से जो डर गया
वो ज़िन्दगी में कूछ न कर पाएगा
जो लड़ गया हर मुश्किलों से
वो इंसान कूछ बड़ा कर जाएगा
कूछ बड़ा काम कर जाएगा

बिना संघर्ष किए यहां
किस को जीवन मिला है
क्या कसूर था गुलाब का
जो कांटों के बीच खिला है
गांधी कलाम हो या स्वामी
विवेकानंद सब को संघर्ष
के बाद ही कामयाबी मिली है
सबको संघर्ष के बाद कामयाबी मिली है

एक छोटी सी सुई दिन रात
न जाने कितने कपड़े सिलती है
मुश्किलों से हार न मानने वालों को
एक दिन कामयाबी जरूर मिलती है
एक दिन कामयाबी जरूर मिलती है

हमें मुश्किलों से डरना नहीं
मुश्किलों से लड़ जाना है
हम दुनिया से जाने के बाद भी
दुनिया याद करे हमें कुछ
ऐसा काम कर जाना है
हमें कुछ ऐसा काम कर जाना है


मंजीत छेत्री
तेज़पुर असम


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X