फिर होली आ गयी

                
                                                             
                            लाल गुलाब रंग से रंगी थी
                                                                     
                            
तू मेरे दिल में छा गई
बहुत याद सता रही है सनम
आज फिर से होली आ गयी
हाथ में रंग गुलाल लिए
हम दोनों घूमते थे सारा जहां
नसीब ने खेल खेला कुछ ऐसा
आज तुम कहां हम कहां
तेरी याद मुझे आज फिर से
सता रही है
तू भी मुझे याद करती होगी
मेरा दिल बता रहा है
पहले तू मेरे हाथ में रंग गुलाल
देख मुझसे दूर भागती थी
एक बार रंग जाती मेरे हाथ से
तो फिर मेरे साथ खेलने आती थी
होकर लाल पीले हम दोनों
होली के रंग में खोजते
कितना मज़ा आता अगर आज भी
हम दोनों साथ हो जाते
हाथ में रंग गुलाल लिए हम दोनों
घूमते थे सारा जहां
नसीब ने खेल खेला कुछ ऐसा
आज तुम कहां हम कहां
लाल गुलाब रंग से रंगी थी
तू मेरे दिल में छा गई
बहुत याद सता रही है सनम
आज फिर से होली आ गयी
आज फिर से होली आ गयी


मंजीत छेत्री
तेज़पुर असम


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X