आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Aaj phir poonam ki raat hai

मेरे अल्फाज़

आज फिर पूनम की रात है

Manisha Jain

17 कविताएं

564 Views
आज फिर पूनम की रात है !

आज फिर पूनम की रात है |
सौंदर्य की चरम सीमा पर ,
आज फिर पूनम का चाँद है,
जगमग इस धरा पर फिर
हुई एक रात है |

हर जीव टकटकी बांधे हुए,
बस निहार रहा है चाँद को,
कर रहा पलक झपके बिना,
इस अद्भुत अमृत पान को |

जिन रवि किरणों ने, इस धरा को,
जीवन सृजन का आशीष दिया,
उन्हीं रश्मियों ने , बंजर शशि को
चांदनी का उपहार दिया |

न जाने क्यों धरा के मन में,
एक अजब सी हूक उठी ?
क्यों इस पर उत्पन्न जीवन को
चन्द्रमा से प्रीत हुई ?

क्या कहीं ईर्ष्या बीज तो
नहीं इसमें अंकुरित हुआ ?
क्या धरा की छटपटाहट
काल भी नहीं रोक पाया ?

इन से अनभिज्ञ , आसमान में,
खिलखिला रहा चाँद है,
निरंतर धरा की ओर भेजता,
अपना प्रीति राग है |

चल पड़ी है धरा रोकने,
पूनम की चांदनी को,
जा खड़ी फिर हो गयी,
रवि शशि के मध्य में वो |

रवि का पूरा ताप सहते,
क्यों सोच रही वह जीत गयी,
शशि पर लगा, इस ग्रहण को,
क्या सचमुच वो संतृप्त हुई ?

न झेल पायी जब देर तक,
दिनकर के इस क्रोध को,
तब फिर छोड़ चल पड़ी ,
अपने ही अवरोध को |

पहले से अधिक रश्मियों ने,
चन्द्रमा को पुनः सजाया,
ग्रहण ग्रसित हो कर भी चंदा,
पूनम की रात में खिलखिलाया |



- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!