आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Gurudev Tagore Ki Kahani
Gurudev Tagore Ki Kahani

मेरे अल्फाज़

गुरुदेव टैगोर की कहानी

Manish Kumar

69 कविताएं

65 Views
कभी वक़्त की
सुईयां उलट कर देखो
कुछ आज
तो कुछ पीछे मुड़कर देखो
इन्हीं पन्नों में छिपी है
गुरुदेव टैगोर की कहानी
कुछ रुककर
कुछ पढ़कर तो देखो
टैगोर ने लिखा हैं
साहित्य का खजाना
जरा ठहर कर तो देखो
गीतांजलि की पाठ्यवस्तु
थोड़ा ग़ौर से तो देखो
मौका निकालकर
थोड़ा शांतिनिकेतन जाकर तो देखो
राष्ट्रगान की धुन को
थोड़ा गुनगुना कर तो देखो
गोरा व घरे बाइरे को
पलटकर तो देखो
उस कालखंड में
अंग्रेजी हुकूमत के ख़िलाफ़
उनकी आवाज तो देखो
हनक थी कितनी
नोबेल की मिठास को छूकर तो देखो
विश्व नागरिक की उनकी कल्पना
समझकर तो देखो
उनकी कला को
देखकर तो समझो
संगीत का आनंद
रवींद्र संगीत सुनकर तो देखो
गुरुदेव टैगोर की कहानी
थोड़ा पढ़कर तो देखो

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।


 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!