आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Pyaar ki paribhasha

मेरे अल्फाज़

प्यार की परिभाषा

Manan Tiwari

8 कविताएं

322 Views
प्यार शायरी की तलम है।
प्यार ख्वाबों से चलती कलम है।
प्यार आंखों की नमी है।
प्यार किसी की खलती कमी है।
प्यार वो रेशमी जुल्फे हैं।
जिसमें चांँद सितारे उलझे है।
प्यार एहसासी है।
जिसमें राधा से लेकर मीरा तक प्यासी है।
प्यार बिन बादलों की बारिश है।
प्यार दिली गुजारिश है।
प्यार मनभावन है।
प्यारा आंखों से झलकता सावन है।
ये ही दो दिलों का सार है।
मेरे लिए तो यही प्यार है।


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!