आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Why pretended and how much.
Why pretended and how much.

मेरे अल्फाज़

धोखा किसे, आखिर कब तक

Mahender Singh

160 कविताएं

24 Views
क्या समझे हो,...
मुझसे कुछ छिपा है,
दृष्टा बन ..सहज सतत ...
अपलक सजग होश हूं,
पल पल नजर रखता हूं,
क्षण क्षण की खबर हूं,

तू लाख कर आयोजन बचने के,
आखिर तेरे हर कर्म में बसता हूं,
तू मांगे या न मांगे तुझसे पहले देता हूं

कर्म से पहले अभिलाषा रखता है,
आखिर किस पर धोखे धरता है,
समझ आपसी क्यों नहीं समझता,
अहंकार वश मेरी रचना में बाधक बनता है,

-डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!