आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Poem

मेरे अल्फाज़

फिर ख़ुदा होता मैं, मैं 'मैं' न होता।

MADHUKAR BILGE

25 कविताएं

21 Views
असल हाल ए ज़िंदगी छुपाया न होता
ख़ुदा आज हमारा मुख़ालिफ़ न होता।

दवाम-ए-दर्द ने रोक दी दवा की ज़ुस्तज़ु
बगैर ग़म अब बसर नहीं होता।

मंजिल है की बस मुस्तक़िल रहू आज
और कुछ होती गर हाल यह ना होता।

अब ना जीने की चाहत है ना मरने का इंतज़ार
मैं काफ़िर होता गर कश-ए-दर्द न होता।

बेशक पैदा होती दिल में हसरत-ए-आलम
अगर ग़म से 'बिलगे' को इश्क़ ना होता।

सदाकत-ए-ज़िंदगी पता नहीं किसी को
फिर ख़ुदा होता मैं, मैं 'मैं' ना होता।

- मधुकर बिलगे



हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!