आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

माँ तू बस माँ जैसी है

Maa tu bas maa jaisi hai
                
                                                                                 
                            माँ मैं तेरीं ममता को, कुछ शब्द समर्पित करना चाहूं,
                                                                                                

शब्दकोश में शब्द नहीं वो, जिनसे तेरी महिमा गाऊं।।

पूस माह में धूप बने तू, जेठ की धूप में शीतल छाया,
अगर हाथ सिर पर हो तेरा, पास न आए दुःख का साया।।

तू असीम शक्ति से पूरित, तुझसे सृजित से यह संसार,
तू ममता का सहज रूप है, माँ तू सृष्टि का है उपहार ।।

काम रातदिन करते रहती, कभी न तुझको थकते देखा,
कितने कष्टों को सहती, पर मैं खुश तो तुझे हसते देखा।।

स्वयं तो तू है व्रत रख लेती, पर मैं कभी थोड़ा कम खाऊं,
उस दिन माँ तेरी नज़रों में, मैं दिन भर भूखा रह जाऊं।।

अगर किसी दिन गलती से तू, मुझसे थोड़ा काम कराती,
थका हुआ आज बेटा मेरा, पूरे गांव में फिर बतलाती ।।

लक्षाधिक है अवगुण मुझमें, फिर भी मैं सबसे अच्छा हूं,
तेरी दृष्टि में कोई ना मुझसा, क्योंकि मैं तेरा बच्चा हूं।।

कोई न तुमसा रक्षक है मां, कोई ना तुमसा जीवनदाता,
आश्रय ना तुमसा कोई है , कोई ना तुमसा भाग्यविधाता।।

स्नेह तेरा मैं वर्णित कर दूं, शक्ति नहीं वो मुझमें है माँ,
प्रतिपल मेरे साथ तू रहना, दुनिया मेरी तुझमें है माँ ।।

कैसे कर दूं मैं परिभाषित, तुमको माँ तुम कैसी हो,
पास मेरे उपमान नहीं कुछ, माँ तुम बस माँ जैसी हो।।

-महेश भट्ट

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।

- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
3 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X