आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   jhoti see ish jindgi ki, badi-badi see khwaish hai !

मेरे अल्फाज़

छोटी सी इस ज़िन्दगी की....

kunwarchandra pratapsingh

4 कविताएं

74 Views
छोटी सी इस ज़िन्दगी की
बड़ी-बड़ी सी ख्वाहिश है

छोटी सी इस ज़िन्दगी की
बड़ी बड़ी सी ख्वाहिश है
पता नहीं कल क्या होगा
न जाने ज़िन्दगी कैसी होगी
पलकों पर जो ख्वाब हैं
पता नहीं पूरे होंगे भी
पर अपनी तरफ से हर पल उन्हें
पाने की आजमाइश है
छोटी सी इस ज़िन्दगी की
बड़ी बड़ी सी ख्वाइश है
ख्वाबों की दुनिया अच्छी है
हर बात आसान दिखती है
म्हणत की भी चिंता नहीं
हर चीज़ पास ही दिखती है
हकीकत में इस ज़िन्दगी की
बहोत सारी फरमाइश है
छोटी सी इस ज़िन्दगी की
बड़ी बड़ी सी ख्वाइश है

कुंवर सी.पी. सिंह

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!