आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Na jaane kitno ka haath wahi

मेरे अल्फाज़

न जाने कितनों का हाथ वही

Kunal Prashant

2 कविताएं

46 Views
निर्मम सिमट सिकुड़ वो सोया था
अंधेरे चौराहेे चौखट पे वो खोया था
चादर ओढ़े सिर छुपाए, पांव फिर भी निकली थी
सन सनाती हवा चली पैरो को छू, निगली थी
कांप गए बदन मेरे देख वो एहसास
क्या बीती होगी उसपर जब टूटे हो जज़्बात
मन न माना जी मचला चला पूछने बात
देख, फिर रह गया ये मेरे मन की बात
क्यों बैठे हो ,क्या हुआ है , कहा से आए हो
कहा ना एक शब्द, पर समझ गया क्यों है वो स्तब्ध
शायद भूखा था,आंखे बन्द कर रो रहा था
घूट घूट कर अंदर ही अंदर खुद को खो रहा था
आंखे नम रूखे बदन ,सिर पर थकान
मानो था सालो से बड़ा परेशान
पुरानी मैली धोती, कमीज़ गंदी सी लिए
शायद जिम्मेवारियां सीने में थे दबा लिए
न जाने कितनों का हाथ वहीं
शायद बेटे का, पति का, नहीं नहीं
शायद पिता का वो हकदार था
घर कैसे जाऊं ये सोच शायद सौ बार था
घर को क्या ले जाऊं ये सोच वो हैरान था
काम की तलाश में शायद भटका वो इंसान था
शायद वो अवाम दुनिया से अंजान था
नहीं! वो अपने हिंदुस्तान का इंसान था

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!