आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Atleast feel me..
Atleast feel me..

मेरे अल्फाज़

मुझे महसूस तो कर

Kiran Mishra

30 कविताएं

45 Views
तेरे ही हर सांस सांस में
तेरे ही हर बात बात में
पलकों में गीलापन मैं हूं
मन का तेरे सीलापन मैं..
तेरे ख्वाबों की जोगन बन..
फिरूं मैं तेरी रात रात में
सुबह तुहिन कण
शाम क्षितिज वन
पावस बदली बन मैं पगली..
बरसूं तेरे मन आंगन ....
अधर तेरे रंग जाऊं
दुपहरी में अमलतास बन
महकूं तेरे...अंग अंग में
रजनीगन्धा... हर सिंगार सी....
मैं हूं तेरे नयन द्वार में...
मुकुलित पलकें..
खुली हैं अलकें...
आलिंगन मे..
शब्द जाल सी
तेरी कविता के गहन भाव में..
सोयी हूं मैं....
शान्त ....झील सी...
शब्द शब्द तेरे कर सिंगार मैं... ..
बन्दिनी तेरे हर्फ हर्फ में ....
तुझमें ही मैं रची हुई हूँ
तेरे लफ़्जों से संवरी हूं...

-किरण मिश्रा

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 




 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!