आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Chalo kisi ka bhala kren ham

मेरे अल्फाज़

चलो ! किसी का भला करें हम

Kavi Satya

11 कविताएं

284 Views
चलो ! किसी का भला करें हम,
दर्द जख्म के सह जायें 
एक अमीरी एक फकीरी,
बोलो किसके घर जायें ।।

अपनी खुशी में सब हंसते हैं,
अपने गम में रोते हैं
दीवाना गुल इतना बोले,
हंसते हंसते रोते हैं ।।

आओ हाथ थाम लो मेरा,
पल पल आगे बढ़ जायें
चलो किसी का भला करें हम,
दर्द जख्म के सह जायें ।।

दीपों की झिलमिल लड़कियों सी,
मेहंदी जैसी रस्में हैं
न तू मेरे बस में साथी,
न हम तेरे बस में हैं।।

वो क्या प्यार निभाएंगे जो,
आंख में आंसू दे जायें 
चलो किसी का भला करें हम,
दर्द जख्म के सह जायें ।।

हम तो डूबे इतना इतना डूबे,
अब पानी पर चलते हैं 
थाली में दो दीप नयन से,
याद में तेरी जलते हैं ।।

हम टूटे चंदा के तारे,
खुशियों से दामन भर जायें ।।

मुद्दत हुई पर उसका कुछ पता भी नहीं 
चलो किसी का भला करें हम,
दर्द जख्म के सह जाएं ।।

- सत्यदेव सिंह आजाद
  इटावा, उत्तर प्रदेश, 9760117355

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!