आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Moun adharon ka

मेरे अल्फाज़

मौन अधरों का

kavi Himanshu

15 कविताएं

176 Views
मौन धरों ना, कुछ तो बोलो,
करो शिकायत रूठो हमसे,
मन के भावों को अपनें तुम,
जैसे भी हो व्यक्त करो तुम
मौन धरों ना कुछ तो बोलो ।
अंतर्मन की पीड़ा को,
यूँ अंतर्मन में ना धरो।
मौन धरों ना कुछ तो बोलो,
अंतिम क्षणों में,प्रिये,मिले थे,
जब हम थे अंतिम बार।
अंतिम शब्द थे प्रिये हमारे,
अंतिम है प्रिये तुमसे मिलन,
कर्म-पथ पर जाना होगा।
अपना धर्म निभाना होगा।
राजनीति का मकड़जाल है ।
दुष्टों का फैला जंजाल है ।
इस जंजाल से मकड़जाल से,
मानवता को मुक्त कराना होगा।
इसी कर्म का धर्म निभाने,
तुमसे दूर अब जाना होगा।
पर शायद ये मेरा भ्रम था।
तुमसे ना मैं दूर जा पाया,
ना ही तुमको मैं भूल ही पाया।
हर पल एक मौन सा चेहरा,
तुम्हारा, प्रिये ,मेरे सपनों में आता,
और तब ये मन हर पल ये ही कहता,
मौन धरों ना कुछ तो बोलो ।
करो शिकायत रूठो हमसे ।
पर यूँ मौन ना धारो तुम
मौन धरों ना कुछ तो बोलो ।
मौन धरों ना कुछ तो बोलो ।
मौन धरों ना कुछ तो बोलो ।
करों शिकायत रूठो हमसे ।।

-  हिमांशु पाठक
ए-36,जज-फार्म
छोटी मुखानी,
हल्द्वानी-263139
नैनीताल,उत्तराखंड

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!