दर्द...

                
                                                             
                            मेरी आँखों के आँसू
                                                                     
                            
इस दिल का दर्द
इन सफ़ेद कागज़ों पर
काले अक्स बन कर उभरता चला जाता है
फैलता चला जाता है
समंदर पर बिखरे तेल की तरह
पर कहीं पहुँचता नहीं है
किसी को छूता नहीं है
न किसी किनारे को
न किसी वीरान टापू को
न किसी जहाज को
न किसी नाव को
इधर से उधर लहरें
बहा ले जाती हैं
बेमक़सद, लक्ष्यविहीन दर्द तैरता रहता है
इस उम्मीद पर कि किसी दिन
इसे भी सहारा मिलेगा
किसी शैवाल या टहनी का
जिस पर ये लिपट कर
चिर निद्रा में अनंत शाश्वत में 
विलीन हो जायेगा
और मेरी इन आँखों के आँसुओं
और दिल के दर्द को
इन सफ़ेद कागज़ों पर
काले अक्स बनने से
मुक्ति मिल जायेगी।
मेरी आँखों के आँसू ,
इस दिल का दर्द
इन सफ़ेद कागज़ों पर
काले अक्स बन कर उभरता
चला जाता है

- कंचन
29/9/13

-हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
3 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X