आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Spiritual poetry

मेरे अल्फाज़

अध्यात्म काव्य

Jatinder Sharda

294 कविताएं

23 Views
सूरज किरणों से अधिक हैं ईश्वर के हाथ
भक्तों के परित्राण हित प्रकटें दीनानाथ
मरु सिक्ता कण से अधिक, प्रभु के अगनित पाद
शरणागत वत्सल प्रभु, गिनें नहीं अपराध
सकल रूप प्रभु रूप हैं, सकल नाम प्रभु नाम
नाम रूप गुण से परे, वही चैतन्य अनाम
स्याही में सब लिपियों, रंगों में सब चित्र
विद्यमान हैं स्वर्ण में, गहने विविध विचित्र
रंगों में दृश्यावली, विविध भांति चित्रित
पत्थर में सब मूर्तियां, वैसे ही सन्निहित
वाणी भाषा हैं विविध, व्यापक प्रभु के कान
भक्ति भाव से जो कहे, सुने सदा भगवान


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!