आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Aisa Hai Bharat Desh Mera

मेरे अल्फाज़

ऐसा है भारत देश मेरा

JAN SHVEJAR

3 कविताएं

180 Views
ऐसा है भारत देश मेरा
जो सदकर्मों से पड़ा भरा
मानवता पथ पर अडिग रहा
ऐसा है भारत देश मेरा
एक से एक मुसीबत आयी
अब कोरोना आफत फैलायी
विचलित नहीं हुआ देश मेरा
ऐसा है भारत देश मेरा
फिर बारी अम्फान की आयी
कुछ है हमको क्षति पहुँचायी
हताश नहीं देश मेरा
ऐसा है भारत देश मेरा
विपदा में करें उपकार यहाँ
हर कोई लेता पनाह यहाँ
भारत करूं नित गुणगान तेरा
ऐसा है भारत देश मेरा
ये जीवन तुझको समर्पित मेरा
यदि हुआ दोबारा जन्म मेरा
फिर तू ही माता, मैं पुत्र तेरा
ऐसा है भारत देश मेरा

- जानश्वेजर

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें


 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!