आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Sabne Photo Khinchwayi!!!

मेरे अल्फाज़

सबने फोटो खिंचवाई !

Himanshu

1 कविता

148 Views
स्वच्छ भारत अभियान
का नारा बहुत महान।
प्रधानमंत्री की तरह
सब ने उठाई झाड़ू सीना तान।

नेता हमारे बड़े बुद्धिमान!
झाड़ू को दिया खूब सम्मान!
फोटो खिंचवाई सड़क पर उतरकर,
बस वोट बैंक का चक्कर।

पड़ोस के चाचा जी भी बड़े होशियार!
गंदगी करने से किया सबको ख़बरदार।
चाचा जी के साथ चाची भी आई,
झाड़ू ले पड़ोसियों ने खूब फोटो खिंचवाई!

देश भर चलता रहा यह सिलसिला।
प्रेस ने खींची फोटो उनको जो भी मिला।
देख प्रधानमंत्री भी खुश यह सिलसिला।
पर वास्तविकता के नाम पर, कुछ और ही निकला।

गुमटी से मंगवाई पान,
नेता हमारे बड़े महान!
कर दिया सड़क को दाग़दार,
अभियान भी हो उठा शर्मसार!

चाची जी ने कूड़ा
हवा में उड़ेला (बालकनी का दृश्य)।
चाचा बोले, "देखकर फेको ओ मोहतरमा,
नीचे खड़ा यहां तेरा बलमा।"
चाची बोली, "मैं भूल गई स्वच्छ भारत अभियान!"
बोले चाचा, "हमें अखबार में मिला स्थान!"

अब तो कूड़ादान भी रहने लगा है उदास!
कूड़े की याद में हो गया मानो देवदास!
कहता, " आई अंधेरी रात,
चार दिवस की चांदनी के बाद।"
हुई न कोई स्वच्छ कार्यवाही!
सबने,
हां, सब ने,
सिर्फ फोटो ही तो खिंचवाई!
सबने फोटो खिंचवाई !

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!