आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Khushi ke mohtaaj

मेरे अल्फाज़

खुशी के मोहताज

haritika sharma

3 कविताएं

30 Views
Apni khushi ke liye
kyun kisi ke mohtaaj bnna
pehle khud se zruri hai judna
phir dusron ko sath lekr chlna


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!