आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   yaha jahaan maanav jeevan ke bina veeran hai

मेरे अल्फाज़

यह जहान मानव जीवन के बिना वीरान है

GAURAV LALWANI

11 कविताएं

13 Views
यह जहान मानव जीवन के बिना वीरान है,
फ़िर क्यों करते हम प्रकृति का नुकसान हैं,
क्या हमें हमारे मनुष्य होने पर गुमान है,
बेजुबान जीवों की हत्या करता मनुष्य हैवान है
यह जहान मानव जीवन के बिना वीरान है, 
इस कदर ना नष्टकर प्रकृति को, क्यूं वह हैरान है,
अपने स्वार्थ में जीवन जीता मनुष्य क्यूं परेशान है,
देती प्रकृति सब कुछ इसे फ़िर भी बनता नाशवान है,
इन सब प्रकोप से नहीं बच सकता इंसान है,
तुम को देखता ऊपर भी कोई भगवान है
यह जहान मानव जीवन के बिना वीरान है,
घोलकर ज़हर खुद ही हवाओं में,
अब हर शख्स मुँह छुपाये घूम रहा है......
सारे मुल्कों को नाज था अपने अपने परमाणु पर,
क़ायनात बेबस हो गई एक छोटे से कीटाणु पर...

# गौरव ललवानी #


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!