आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Hasrat hai dekhne ki

मेरे अल्फाज़

हसरत है देखने की

DrAnand Kishore

36 कविताएं

175 Views
हसरत है देखने की जो मरने न दे मुझे
ये चाह है कमाल बिखरने न दे मुझे

देखेगा आइना भी शिकायत ये उसको है
शीशे के सामने वो सँवरने न दे मुझे

सुनना उसे गँवारा नहीं एक लफ़्ज़ भी
इज़हार मेरे प्यार का करने न दे मुझे

ये कौन से जहान में ख़्वाबों में आ गया
है कोई सामने जो गुज़रने न दे मुझे

जाने कहाँ कहाँ पे भटकता फिरा हूँ मैं
ये घूमने की लत ही सुधरने न दे मुझे

तस्वीर सोचता था सजाऊँगा मैं तेरी
तेरे ख़याल रंग भी भरने न दे मुझे

'आनन्द' आजकल का ज़माना ख़राब है
कोई भी मुश्किलों से उबरने न दे मुझे

~ डॉ आनन्द किशोर

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!