आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   satta shoharat daulat

मेरे अल्फाज़

सत्ता-दौलत

Dinesh Pratap

91 कविताएं

220 Views
सत्ता शोहरत दौलत सारे छूट भी सकते हैं
रिश्ते धागे सपने शीशे टूट भी सकते हैं
ज्ञान प्रेम और चरित्र का सरमाया लुट न सके
धन और दौलत चोर लुटेरे लूट भी सकते हैं
संगत वातावरण चेतना का जब संगम हो
कविता गीत ग़ज़ल अधरों से फूट भी सकते हैं
तीर और तलवारों से भी नहीं खरोंच जिन्हें
वो दिल शब्दों की कटुता से टूट भी सकते हैं
दुर्वय्वहारों ने तोड़े हैं खून के जो रिश्ते
व्यवहारों से हो रिश्ते मज़बूत भी सकते हैं

दिनेश प्रताप सिंह चौहान

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!