जो कहना था वह शेष रह गया..

                
                                                             
                            वह दो साल...
                                                                     
                            
जो बिताए थे तुम्हारे साथ तुम्हारे शहर में
वो मेरी जिंदगी के सबसे खूबसूरत पल बन गए

मेरी नासमझी मेरी खामोशी
उन सब का जिम्मेदार मैं ही हूं
जो आग सुलगती रही दिल में
कुछ जलता रहा वर्षों से
और कुछ अवशेष रह गया;

दशकों पहले जो कह देना था तुमसे
वह कभी न कह पाया
अब जब तुमसे सब कहना चाहता हूं
तुम्हारे नाम के सिवा....
और न कुछ संदेश रह गया;

ये उलझनें क्यूँकर पैदा हुईं
क्यों कमजोर पड़ गए जज्बात मेरे
मेरे होंठों ने क्यों न साथ दिया
मन में यह क्लेश रह गया;

तुमसे प्यार किया
लम्हा....हर लम्हा
तुमने प्यार किया था...?
या
ना किया कभी
मन में या अंदेश रह गया;

सब कुछ पाकर भी
जीवन में कुछ ना विशेष रह गया
मेरी मनीषा अधूरी रह गई,
और जो कहना था तुमसे
वह शेष रह गया....
 
हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।  आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
8 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X