आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   AGNIPATH

मेरे अल्फाज़

अग्नि पथ

Devender Grover

13 कविताएं

293 Views
जीवन है एक अग्निपथ, इस पर तुमको ही चलना होगा,
फूलों की तरह अगर खिलना है तो, इस में रंग भी भरना होगा,
मुसीबतौं की इस डगर पर, तुमको हिम्मत से लड़ना होगा,
जीवन है एक अग्निपथ, इस पर तुमको खुद ही चलना होगा।

अंधेरों से जीवन घिर जाए जब तेरा, दीपक तुझको ही बनना होगा,
होगा रोशन अंधियारा, पर तुझको जल कर निखरना होगा,
पानी की तरह तुमको भी हर रंग में ढलना होगा,
जीवन है एक अग्निपथ, इस पर तुमको खुद ही चलना होगा।

मुसीबतों लाख हों राह में, पर तुमको सबसे लड़ना होगा,
राह भले ही मुश्किल हो, तुमको न इनसे डरना होगा,
अग्नि में तप कर तुमको, रंग अपना बदलना होगा,
जीवन है एक अग्निपथ, तुमको सम्भल कर चलना होगा।

रात के इन सन्नाटों पर, पसरी हो चाहे कितनी खामोशी,
ओझल हों तारे चाहे सब आसमान से,
इन सुनसान राहों पर भी, हर कदम, मजबूती से रखना होगा,
जीवन है एक अग्निपथ, इस पर तुमको खुद ही चलना होगा।

हासिल कर पाना जीवन में, सबकुछ आसान न होगा,
जीवन के इस संघर्ष में कभी विश्राम न होगा,
कुछ पाना है अगर जीवन में, तो कुछ खोना भी होगा,
जीवन है इस अग्निपथ पर, तुमको अग्नि में तप कर निखरना होगा,

जीवन है एक अग्निपथ, इस पर तुमको खुद ही चलना होगा।

-हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!