आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   My name Anuj Mishra I am blog writer

मेरे अल्फाज़

बचपन

Commerce Adda

2 कविताएं

15 Views
सब कुछ आसान था जब मैं नादान था
बस थोड़ी सी ही तो पिता की डांट थी
पर मां का अथाह दुलार था
लगता सब आसान था
यार बचपन ही खास था
रात भर सोना सुबह देर से उठना
बस स्कूल ही जाना था
उसमें भी बहाना था
यारों की बस्ती में
अपनी मौज मस्ती में
कुबेर का खजाना भी बेकार था
सब कुछ आसान था जब मैं नादान था।।
पिता की बेचैनी अब समझ में आ रही
जब जिंदगी दर-दर ठोकर खा रही
आज एक रुपए की अहमियत
समझ में आ रही
सफेद हुए बाल मौत मुझे खा रही
सब कुछ आसान था जब मैं नादान था।।
जिंदगी आसान नहीं रही
बात बचपन वाली अब कहां रही
रात हो या दिन इंतहान हर पल यहां
यह मुश्किल का है दौर
अब पूर्ण विराम कहां
सब कुछ आसान था जब मैं नादान था।।

(अनुज कलम)

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!