आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Meri gumnaam gazal 2-unki vo aankhe

मेरे अल्फाज़

झरोखों से देखती हैं उनकी वो आंखें

Brijmohan Bisht

4 कविताएं

264 Views
झरोखों से देखती हैं उनकी वो आंखें
कितनी खूबसूरत है उनकी वो आंखें।

दिल से धड़कनें भी आज फना हो गयीं,
देखी है जब से हसीन उनकी वो आंखें।

नीली गहरी समुंदर सी काजल लगी हुई,
कत्ल का सामान है उनकी वो आंखें।

हम देखना भी चाहें तो नजर फेर लेते हैं,
जाने क्यों हमसे खफा है उनकी वो आंखें।

इधर देखती हैं तो कभी उधर देखती हैं,
है कितनी बेचैन सी उनकी वो आंखें।

इक नमी सी है उनकी पलकों के आसपास,
शायद पानी से भीगी हैं उनकी वो आंखें।

खामोशी सी छाई है महफिल में गुमनाम,
लेकिन बहुत बोलती हैं उनकी वो आंखें।

-बृज मोहन सिंह बिष्ट

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!