आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Ram charitrra me savi dharm ka sar

मेरे अल्फाज़

राम चरित्र में सभी धर्मों का सार

Binoy Kumar

128 कविताएं

166 Views
राम नहीं तो हम नहीं
राम ईश्वर से कम नहीं!
राम नाम के जपने से
होती जीवन नैया पार,
राम हैं ईश्वर के अवतार!

राम हैं तो ग़म नहीं
राम ईश्वरीय रूप सही
ईश्वर में जितना गुण है
सब राम ने किया साकार,
राम नाम से चल रहा संसार!

राम तबसे जबसे मही
राम का रामत्व वही
जैसे होते हैं भगवान
राम को मानवता से प्यार,
राम सकल विश्व के सृजनहार!

जग की चाहत यही
चाहे पुत्र राम सा ही
राम रमन करे मन में
राम हैं इच्छित पुत्र का आकार,
आज विश्व को राम से सरोकार!

बेटी होती सीता सी
जमाता हो राम जी
राम में नहीं अभिमान
हर घर को राम का इंतजार,
राम मानव जीवन का सदाचार!

राम वर्णवादी नहीं
मर्यादित महाप्राण
दलित-वनवासी के हितैषी
किया गृद्ध का पिता सा संस्कार,
ब्राह्मणी-भीलनी से एक सा मातृ व्यवहार!

राम वीतरागी, त्यागी
सब रिश्तों के अनुरागी
धर्म रुप मूर्तिमान
राम का दूजा नहीं प्रकार
राम सर्व ईश्वरीय तत्व का समाहार!

राम एक नाम
आज्ञाकारी पुत्र,
स्नेहिल पति, प्रिय भाई
पिता सा लोक हितकारी सरकार,
राम चरित्र में है सभी धर्मों का सार!

---विनय कुमार विनायक
राम कृष्ण आश्रम हाई स्कूल रोड
दुमका, झारखंड


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!