आपका शहर Close
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   aadami ke badale masin ban gaye ham

मेरे अल्फाज़

आदमी के बदले मशीन बन गये हम

Bijay Bahadur

167 कविताएं

269 Views
जो काम पहले करते थे जीन
आज वो ही सब करतीं मशीन
आधुनिकता ने ऐसा पागल बनाया
बढने लगी है जीनों की साया
घर से बाहर केवल हैं जीन
नसीहत तुम्हारी हम भूले अलादिन
बोला था जीन पर निर्भर ना होना
पड़ेगा तुमको अपने को खोना
बल और बुध्धि अनवरत घटाता
राक्षसी प्रवृति मन में है लाता
बनाता है आलसी लोभी कमजोर
रहता नहीं अपने बल पर जोर
मशीनों का ऐसा बढ़ा प्रकोप
विलक्षणता का होने लगा है लोप
छात्रों को अब पहाड़े नहीं आते
जो याद करते फौरन भूल जाते
कारण पूछने पर मुँह बिचकाते
कम्प्युटर तथा कल्कुलेटर दिखाते
जानते थे पूर्वज सवईया और डेढ़ा
याद रखते थे आजन्म मंत्र टेढ़ा

मशीनों की ऐसी बढ़ी है माया
विचारों भावनाओं पर दिखती है छाया
चौपालों पर अब चौसर नहीं होते
शाम ढलते दरवाजे बंद होते
उग्रवादियों की अब लगती अदालतें
जातियाँ पूछ पूछ लोग मारे जाते
खलिहानें हैं खाली,खेतें हुईं खूनी
कैसी हमने जिंदगी है चुनी
थ्रेशर ,हर्वेस्टर से गूजता है गाँव
महिलायें नहीं रखतीं खेतों में पाँव
पालकी से नहीं आते दुल्हे व दुल्हन
सूख गये सारे तलाब व उपवन
सरंक्षण अन्नों का कीटनाशक से करते
खद्यानों मे हम जहर जा रहे भरते
लोकगीतों की अब नही आतीं आवाजें
बजती नहीं घंटीयाँ ढोलक व बाजें
नहीं आतीं घर से सिलवटों की आवाजें
अन्न कूटती बालाओं की नाजें
नहीं बजती अब ड्योढ़ियों पे पायल
नहीं होता कोई अदाओं से घायल
प्रेमी करने लगे अब हैं डेटिंग
रखते हैं कईयों को क्यू मे वेटिंग
सोशल मीडिया से होते हैं क्लोज
परस्पर धोखा देते वे रोज
शरबत के बदले पीते हैं कोला
रहता उसमें पेस्टीसाइड घोला
सुनता कोई रेडियो ना ही सुनता टेप
बढ़ाया है हमने आडम्बर का लेप
मंदिर, मस्जिद या हो आखाडे़
पढ़ाते हैं केवल राज्नीति के पहाडे़
पाप एवं पुण्य का यहाँ सम्मिश्रण
फिदाईन बनने का मिलता प्रशिक्षण
बुद्धि घटी बढ़ा राक्षसीपन
भावना से बड़ा हो गया धन
सुबह से शाम कमाने की धुन
पानी हुआ महँगा सस्ता है खून
जीनों के साथ जीन हो गये हम
आदमी के बदले मशीन बन गये हम

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!