आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Lipat ke sadi me ati hai

मेरे अल्फाज़

लिपट के साड़ी में आती है...

Arvind Dubey

120 कविताएं

28 Views
लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

जिसे निरखना चाहे सबका,
विचलित, बेसुध, व्याकुल मन।

अधरों पर उसके गुलाब की,
सुंदर छटा बिखरती है।

उजले तन से धवल चाँदनी,
देखो आज निखरती है।

उसकी भोली सूरत सबका,
कर देती है बेसुध मन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

नागिन जैसी जुल्फों को जब,
वह लहराने लगती है।

कमर सुराही के समान जब,
वह लचकाने लगती है।

नयन-बाण जब चलते उसके,
बढ़ जाती है दिल की धड़कन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

चाँद सा मुखड़ा लिए दुल्हनिया,
नाक में पहने मस्त नथुनिया।

माथे पर जब सटा के बिंदिया,
वह महफिल में आती है।

देखके उसका रूप सलोना,
होने लगती है सिहरन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

आज दुल्हनिया निखर रही है,
पिया प्रेम में इतर रही है।

कब होंगे दर्शन पिय प्रभु के,
बस इसी बात की उसे घुटन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

लाल-लाल जोड़े में उसकी,
काया सुंदर दिखती है।

नजर उसी पर जाकर बरबस,
बार-बार सबकी टिकती है।

आज दुल्हनिया तेरा होगा,
पिया से जमकर खूब मिलन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

मंडप देखो सजा हुआ है,
गीत प्रेम के बजते हैं।

दूल्हे राजा भी कोने में,
चुपके-चुपके सजते हैं।

उन्हें पता है आज दुल्हनिया,
महकाएगी दिल का उपवन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

दूल्हे राजा राह कठिन है,
जीवन नइया खेने की।

पहले फेरे सात लगाओ,
पुनः सोचना जीने की।

हाथ चूम लो मेहँदी वाले,
हो न उनको तनिक चुभन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

माँग में अब सिंदूर लगाओ,
आज दुल्हन को खूब रिझाओ।

कभी न पाए कष्ट दुल्हनिया,
महके उसका घर आँगन।

लिपट के साड़ी में आती है,
परी सरीखी एक दुल्हन।

- कवि अरविन्द दुबे(मनमौजी)

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!