आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

मोह माया का संसार

                
                                                                                 
                            अब किसको किससे प्यार है
                                                                                                

यह मोह माया का संसार है
हर व्यक्ति सोचता है लाभ हानि
अब जीवन एक व्यापार है

यह मोह माया का संसार है

रिश्ते अब कहां हृदय तल से चलते हैं
सब काम कपट और छल से चलते हैं
रब को भी न पूछे मानव यदि स्वार्थ न हो
निजी स्वार्थ पे ही आधारित व्यवहार है

यह मोह माया का संसार है

भले बुरे की कौन अब परिभाषा पढ़ता है
जिसे देखो वो लाभ की आशा गढ़ता है
पाप और पुण्य की चिंता अब किसको है
जिसमें धन लाभ हो वही काम स्वीकार है

यह मोह माया का संसार

चापलूसी बन गई आजकल की राजनीति
अपना हित साध लो यही है अब कूटनीति
जो लंबी चौड़ी हांक सके उसका स्वागत है
सत्य तक जो सीमित है उसका तिरस्कार है

यह मोह माया का संसार है

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X