आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   ma tu na hoti
ma tu na hoti

मेरे अल्फाज़

मां तू ना होती

Aprajita Sharma

3 कविताएं

44 Views
ma tu n hoti to muje hsata kon apne sine se lga kr sulata kon
muje sja kr gidiya rani bulata kon papa ki dat se bchata kon
rat ko lori sunata kon subh ko matha chum ke jgata kon
is duniya ki buri nigah se bchata kon najar ka kala tika lgata kon
duniya me jina sikhata kon or apni beti ko me kese palugi ma muje ye sikhata kon
i love u ma i miss u

- अपराजिता

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!