आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Anveshak Dohe

मेरे अल्फाज़

अन्वेषक दोहे

Anvesh Singh

2 कविताएं

121 Views
'अन्वेषक दोहे'

कलम उधार दै देव मगर, ढक्कन लेव निकारि !
काम खतम होतै समय, जेब न लेवैं डारि !! १ !!

मंदिर या सत्संग मां, जूता लेव बचाए !
एक दाहिने गेट के, रक्खौ दूसर बांए !! २ !!

हरा-भरा करि लेव सब,आपन घर-संसार !
बच्चे दुइ तो बहुत हैं, पेड़ लगाव हजार !! ३ !!

चलो दुपहिया ते तबै, हेलमेट लागै पक्का !
पुलिस ते ज्यादा खास हैं- धूल, धूप औ' धक्का !! ४ !! 


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!