आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Trust me ...

मेरे अल्फाज़

भरोसा करो

Anurag dwivedi

4 कविताएं

256 Views
करो तुम मुझ पर भरोसा मैं तुम्हें नहीं छोडूंगा,
जिंदगी भर साथ रहूंगा यह साथ नहीं तोडूंगा,
बस कर के देखो भरोसा मुझ पर ,
ये भरोसा मैं जिंदगी भर नहीं तोडूंगा ,
मेरी जिंदगी तेरी मेरा सब कुछ तेरा ,
मैं इस बात पर जिंदगी भर कायम रहूंगा ,
करके देखो एक बार मैं भरोसा नहीं तोडूंगा,
मोहब्बत तुमसे प्यार तुझी से मैं क्या बताऊं तुझे,
कितना प्यार है तुझसे मैं क्या बताऊं तुझे कितना प्यार है
मुझे चल जाने दे तुझे समझ नहीं आएगा
तुझे दिल्लगी और प्यार में अंतर कहां पता है तुझे ,
पता ही क्या है तुझे पहले मेरी मोहब्बत ना पता थी,
अब मेरा प्यार नहीं पता या दोनों कहूंगा दोनों नहीं पता, चल जाने दे,
पर एक बार भरोसा करके देख ,
तेरा साथ नहीं छोडूंगा तेरा भरोसा नहीं तोडूंगा।।

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!