आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   hai shikayat kisko nahi apne naseeb se

मेरे अल्फाज़

है शिकायत किसको नहीं अपने नसीब से

anoop kumar

3 कविताएं

262 Views
है शिकायत किसको नहीं, अपने नसीब से।
कभी किसी को देखिऐ,जरा करीब से।।
ना खुश हैं जमी के परिदें,ना अासमां में उड़ने वाले।
हो गये हैं हालात, कुछ इतने अजीब से।।
खुदा की खुदाई पर भी,ना जाने कितने सवाल होंगे ।
कभी हाल-ऐ-जिऩ्दगी तो पूछिऐ, किसी गरीब से।।
दिल लगाना न दिललगी करना,था मशबरा उनके छलकते अश्कों का।।
राहे वफा में खाये थे चोट जो,अपने हबीब से।।
राहे जिन्दगी में संभलकर चलना,लूट ना ले काेई नादान तुमको।
लगते हैं राहबर भी यहां, कभी-कभी तो अजीज से।।

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!