आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Mook Nayak

मेरे अल्फाज़

मूक नायक

Anonymous User

5 कविताएं

125 Views
"सदियाँ दर सदियाँ बीत गयीं,
हमारी हालत बद से बदतर हो गयी;
कहने को तो सरकार हमारी है,
लेकिन यह बात बस फाइलों में जारी है;
हमारे भले को नित नए नियम बनते हैं,
लेकिन वो धरातल पर कम ही दिखते हैं;
हम विकास के मूक नायक कहे जाते हैं;
उद्योग धंधे हमारे दम पर फलते-फूलते हैं;
भवनों की गगनचुंबी हम ही बनाते हैं;
खेती किसानी में हमारे ही पसीने बहते हैं;
हर बड़े कार्य की नींव हम ही होते हैं;
लेकिन यह भी है कि.......
हम ही सबसे ज्यादा परेशानी सहते हैं;
हर ओर से दुत्कारे जाते हैं;
पाई-पाई को मोहताज रहते हैं;
खुले आसमां के नीचे रात बिताते हैं;
अक्सर भूखे पेट सो जाते हैं;
हर ओर से लाचार रहते हैं;
लेकिन फिर भी मुस्कुराते हैं..
खुद तप कर देश व समाज को कुंदन बनाते हैं;
हम मजदूर हैं साहब.....
जो मूक नायक कहे जाते हैं!!"


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!