आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   How you will addressed me

मेरे अल्फाज़

क्या कहकर संबोधित करोगी

Anita Maithani

20 कविताएं

187 Views
सुनो!
जब तुम कल
मेरा जिक्र करोगी
क्या कहकर
संबोधित करोगी!
ऐसा करते हुए
क्या तुम बिताए पलों को-
बांट नहीं दोगी,
मुझे स्वीकार्य नहीं
आज भी नहीं, कल भी नहीं।

मेरे चले जाने पर
तुम्हें टूटकर चाहने की
उस गति और पल में
तुमको लिखे मेरे
आसमानों से ऊँचे
सागर से गहरे
ख़तों को देखते हुए
क्या कहकर
याद करोगी,
प्रेमी कहोगी
या निरा आशि़क कहोगी।

किसी रोज
लौट आऊँ तो;
क्या ?
खुशी से नाच पड़ोगी,
लिपट कर मेरे कांधे भिगोओगी ...
खी-खी कर हँस दोगी ...
बताओ, जड़ हो जाओगी,
क्या कहकर
मुझसे मिलोगी
दोनों हाथ जोड़
नमस्ते कहोगी।

वो हँस दी
बोली-
पलकें झुकाकर दोस्त
शुक्राना करूंगी।

- अनीता मैठाणी

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!