आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Freedom

मेरे अल्फाज़

स्वतंत्रता

Anil Kumar

106 कविताएं

44 Views
स्वतंत्रता के इस अवसर पर,
क्राँति गीत सुनाता हूँ ।
भारत को आजाद कराया,
महिमा उनकी गाता हूँ।।

भारत की इस भूमि पर,
जाने कितने वीर हुऐ ।
अँग्रेजों से लड़ते लड़ते,
जाने कितने शहीद हुऐ ।।
सोय हुऐ भारत में फिरसे ,
अलख जगाना चाहता हूँ ।
भारत को आजाद कराया,
महिमा उनकी गाता हूँ।।

पन्द्रह अगस्त तिरंगा झण्डा,
स्वतंत्रता की गाथा है ।
कन्याकुमारी से लेकर,
कश्मीर तक लहराता है ।।
जन जन में विश्वास जगाते,
आजादी पर्व मनाता हूँ ।
भारत को आजाद कराया,
महिमा उनकी गाता हूँ ।।

वापू के यहशान न भूलों,
आजाद सुभाष की कुर्बानी ।
लड़ते लड़ते जान गवाँ दी ,
ऐसी थी वो महारानी ।।
क्राँतिकारी अभिमान चलाके,
जन जागरण फिरसे करता हूँ ।
भारत को आजाद कराया,
महिमा उनकी गाता हूँ।।

- अनिल कुमार सोनी मोबाईल नं.9893886127

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!